Uttar Pradesh Mukhyamantri Bal Sewa Yojana-UP

499

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना क्या है?

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना | UP Mukhya Mantri Bal Sewa Yojana | Uttar Pradesh Mukhyamantri Bal Sewa Yojana | Mukhya Mantri Bal Seva Yojana Uttar Pradesh| Mukhya Mantri Bal Sewa Yojana Benefits 

Uttar Pradesh Mukhyamantri Bal Sewa Yojana : –  आप सब   इस बात से भली-भांति परिचित हैं कि कोरोना-19 महामारी की दूसरी लहर आमजन के लिए घातक साबित हुई है। कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर में बहुत से बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया है और वे अनाथ हो गये है। उनका पालन पोषण  करने वाला कोई नहीं बचा है।  जबकि बहुत से बच्चे ऐसे हैं जिनके माता-पिता में से कोई एक खत्म हो गया है और उनकी आर्थिक स्थिति इतनी कमजोर है कि वे अपना भरण-पोषण भी ठीक से नहीं कर पा रहे हैं।

अनाथ बच्चों की इसी समस्या को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष श्री जय प्रकाश नड्डा ने बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अपील की थी कि वे कोरोना वायरस की वजह से अनाथ हुए बच्चों के भरण पोषण तथा शिक्षा के लिए योजनाएं लेकर आएं।  बीजेपी शासित राज्यों ने इस बात पर अमल करते हुए कोरोना वायरस महामारी की वजह से अनाथ हुए बच्चों के भरण-पोषण के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की शुरुआत की है।

Uttar Pradesh Mukhyamantri Bal Sewa Yojana को शुरू करने वाले राज्य में सबसे अग्रणी उत्तर प्रदेश है।  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री आदित्य योगी नाथ में  29  मई 2021 को राज्य में इस महामारी की वजह से अनाथ हुए बच्चों के भरण-पोषण तथा शिक्षा के लिए  मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना उत्तर प्रदेश का शुभारंभ किया है।  इसी के साथ ही बीजेपी शासित अन्य राज्यों  हरियाणा तथा गुजरात  ने  भी  अपने  अपने राज्यों में मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की शुरुआत की है। 

Uttar Pradesh Mukhya Mantri Bal Seva Yojana 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 29 मई 2021 को कोविड-19 महामारी की वजह से अनाथ हुए बच्चों के भरण-पोषण, रहन सहन तथा शिक्षा के लिए योजना की शुरुआत की है।  इस योजना को  मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना  उत्तर प्रदेश  के नाम से जाना जाएगा। इस योजना के अंतर्गत कोरोना वायरस से अपने माता पिता को खो देने वाले बच्चों के लिए योगी सरकार ने बच्चों की देखभाल के लिए प्रति माह प्रति बच्चे 4000 रुपए की सहायता राशि प्रदान करने की घोषणा की है।

https://publish.twitter.com/?query=https%3A%2F%2Ftwitter.com%2FAHindinews%2Fstatus%2F1398622055591858178&widget=Tweet 

Key Highlights of Uttar Pradesh Mukhya Mantri Bal Seva Yojana

योजना का नामउत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना(Uttar Pradesh Mukhyamantri Bal Sewa Yojana)
योजना किसके द्वारा शुरू की गईश्री योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश
योजना की घोषणाशनिवार, 29 मई 2021
योजना  का उद्देश्यकोविड-19 महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों के लालन पालन तथा शिक्षा की समुचित व्यवस्था करना।
योजना के लाभार्थीकोविड-19 महामारी से अनाथ हुए समस्त उत्तर प्रदेश के बच्चे।
योजना से संबंधित मंत्रालयमहिला एवं बाल एवं विकास मंत्रालय, उत्तर प्रदेश सरकार। 

श्री योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना  की घोषणा के समय यह भी बताया कि इस योजना के अंतर्गत कोरोना वायरस महामारी की वजह से अनाथ हुई बालिकाओं की शादी के लिए सरकार द्वारा ₹101000 की सहायता राशि प्रदान की जाएगी। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना उत्तर प्रदेश के अंतर्गत जो अनाथ बच्चे व्यावसायिक शिक्षा ग्रहण कर रहे होंगे उन्हें सरकार मुफ्त  टैबलेट/ लैपटॉप वितरित करेगी। 

Uttar Pradesh Mukhyamantri Bal Sewa Yojana के अंतर्गत भी बच्चे शामिल किए जाएंगे जिन्होंने कोरोना वायरस के दौरान अपने माता पिता अथवा माता-पिता में से कोई एक जिंदा था, तो उसको को खो दिया है। इस योजना के अंतर्गत अनाथ बच्चों को भी शामिल किया जाएगा  जिनके माता-पिता पहले ही खत्म हो चुके थे लेकिन महामारी के दौरान उनके लीगल गार्जियन भी मर गए हैं। यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना-2021  के अंतर्गत उन बच्चों को भी शामिल किया जाएगा जिन्होंने कोविड-19 के कारण अपने माता-पिता में से आए अर्जित करने वाले अभिभावक को खो दिया है। 

अगर अनाथ बच्चों का कोई गार्जियन/ केयरटेकर है तो इस योजना के अंतर्गत  राज्य सरकार द्वारा  अनाथ बच्चे की देखभाल के लिए वित्तीय सहायता के तौर पर केयरटेकर/ गार्जियन को ₹4000 प्रतिमाह, प्रति बच्चे की दर से वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। 

उत्तर प्रदेश शादी अनुदान योजना आवेदन कैसे करे?

UP मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 पात्रता

Uttar Pradesh Mukhyamantri Bal Sewa Yojana 2021  में शामिल  करने के लिए  राज्य सरकार द्वारा निम्नलिखित पात्रता मार्ग मापदंड निर्धारित किए गए हैं-

  • वे अनाथ बच्चे जिन्होंने कोरोना-19 महामारी की वजह से अपने माता पिता दोनों को खो दिया है।
  • वे अनाथ बच्चे जिन्होंने कोरोना-19 महामारी की वजह से अपने माता-पिता में से कोई एक जिंदा था, उसको खो दिया है। 
  • इस योजना के अंतर्गत उन अनाथ बच्चों को भी शामिल किया जाएगा  जिनके माता-पिता पहले ही खत्म हो चुके थे लेकिन महामारी के दौरान उनके लीगल गार्जियन भी मर गए हैं। 
  • यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना-2021  के अंतर्गत उन बच्चों को भी शामिल किया जाएगा जिन्होंने कोविड-19 के कारण अपने माता-पिता में से आय अर्जित करने वाले अभिभावक को खो दिया है। 

UP मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 वित्तिय मदद

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 के लिए चयनित अनाथ बच्चों को राज्य सरकार द्वारा निम्नलिखित  सहायता प्रदान की जाएगी-

  • इस योजना के अंतर्गत  राज्य सरकार द्वारा  अनाथ बच्चों की देखभाल के लिए अगर कोई गार्जियन/ केयरटेकर है तो वित्तीय सहायता के तौर पर केयरटेकर/ गार्जियन को ₹4000 प्रतिमाह, प्रति बच्चे की दर से वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
  • कोविड-19 महामारी की वजह से अनाथ हुई बच्चियों की शादी के लिए राज्य सरकार शादी के समय ₹101000 की वित्तीय सहायता देगी। 
  • चयनित ऐसे अनाथ बच्चे, जो  मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत स्कूल/ कॉलेज में पढ़ रहे है  अथवा व्यावसायिक शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं,  उन्हें राज्य सरकार द्वारा मुफ्त लैपटॉप/ टेबलेट प्रदान किए जाएंगे।
  • 10 साल  से कम उम्र के  अनाथ बच्चों को जिनका कोई गार्जियन/ केयरटेकर नहीं है, तो ऐसे बच्चो की देखभाल के लिए राज्य सरकार, भारत सरकार की सहायतार्थ अथवा अपने संसाधनों से  संचालित राजकीय बाल गृह (वर्तमान में संचालित  मथुरा, लखनऊ, प्रयागराज, आगरा तथा रामपुर)  में रखेगी। 
  • यूपी मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के अंतर्गत बालिकाओं को देखभाल तथा पढ़ाई-लिखाई के लिए  भारत सरकार द्वारा संचालित  कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय (आवासीय)  अथवा  राज्य सरकार द्वारा संचालित राजकीय बालिका गृह ( वर्तमान में बालिकाओं के लिए संचालित 13 राजकीय बाल गृह) अथवा  राज्य में स्थापित किए जा रहे 18  अटल आवासीय विद्यालयों में रखा जाएगा।
Uttar-Pradesh-Mukhyamantri-Bal-Sewa-Yojana-2021

विधवा पेंशन योजना ऑनलाइन अप्लाई कैसे करे?

UP मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 की विशेषताएं

कोविड-19 महामारी की वजह से अनाथ हुए बच्चों के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा चलाई गई मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 की निम्नलिखित विशेषताएं हैं-

  • मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना की शुरुआत  29 मई 2021 को की गई है।
  • योजना की शुरुआत मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ द्वारा की गई है।
  • इस योजना के अंतर्गत केवल अनाथ बच्चों को शामिल किया जाएगा जिन्होंने कोविड-19 महामारी की वजह से अपने माता पिता तथा अभिभावकों को दिया है।
  • अनाथ बच्चों की देखभाल  तथा शिक्षा के लिए केयर टेकर/ अभिभावक को ₹4000 प्रति माह प्रति बच्चे की दर से प्रदान किए जाएंगे।
  • स्कूल/कॉलेज अथवा व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त कर रहे छात्र छात्राओं को ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त करने के लिए मुफ्त लैपटॉप/ टेबलेट प्रदान किए जाएंगे।
  • 10 वर्ष से कम आयु के अनाथ बच्चों को  केंद्र सरकार की सहायता अथवा राज्य सरकार द्वारा वर्तमान में संचालित  मथुरा, लखनऊ, प्रयागराज, आगरा तथा रामपुर आदि  राजकीय बाल गृह  में रखा जाएगा। 
  • अवयस्क अनाथ बालिकाओं को कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय से शिक्षित किया जाएगा।
  • निराश्रित बालिकाओं की शादी के लिए योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा ₹101000 की आर्थिक मदद प्रदान की जाएगी। 
  • राज्य सरकार द्वारा 197 बच्चे ऐसे अनाथ बच्चों को चिन्हित कर चुकी है जिनके माता-पिता दोनों कोविड-19 के दौरान मर चुके हैं।
  • लगभग 2000 ऐसे बच्चों को चिन्हित किया जा चुका है जिनके  माता-पिता में से कोई एक कोविड-19 की वजह से मर चुका है। 

UP मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना 2021 की पहचान

राज्य सरकार करीब 15  दिन पहले  कोविड-19 महामारी की वजह से अनाथ हुए बच्चों की पहचान के साथ-साथ उनके रहन-सहन पालन पोषण तथा विकास की समुचित व्यवस्था करने के लिए  महिला एवं बाल विकास विभाग को कार्य योजना बनाने के निर्देश जारी किए थे।  अब तक मिली जानकारी के मुताबिक राज्य सरकार इस योजना के अंतर्गत  लगभग 200 बच्चे  चिन्हित किए जा चुके हैं जिनके माता-पिता दोनों का कोविड-19 महामारी के संक्रमण खत्म हो गए हैं।  जबकि 2000 ऐसे बच्चों को चिन्हित किया गया है, जिन्होंने इस महामारी के दौरान अपने माता या पिता में से किसी एक को खो दिया है। 

निष्कर्ष – 

कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर इतनी खतरनाक होगी,  इसके बारे में सरकारों ने विचार भी नहीं किया होगा।  कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर से मुकाबला करने में लगभग सभी राज्य सरकारें असफल रही है।  राज्य सरकारों की असफलता के कारण  बहुत से बच्चों को  अपने माता पिता को खोना पड़ा है।   यह बच्चे अनाथ हो गए हैं,  जिनका पालन पोषण  तथा शिक्षा की व्यवस्था करने वाला कोई नहीं बचा है।  ऐसे में राज्य सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि वे इन अनाथ बच्चों के लालन पालन तथा शिक्षा  की सुचारू रूप से व्यवस्था करें।  

उत्तर प्रदेश सरकार  के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ  ने Uttar Pradesh Mukhyamantri Bal Sewa Yojana  के माध्यम से  कोविड-19 महामारी की वजह से अनाथ हुए बच्चों के पालन पोषण तथा शिक्षा  व्यवस्था के लिए कदम उठाए हैं। राज्य सरकार द्वारा उठाया गया यह एक अच्छा कदम है लेकिन   पूर्ण लाभ  अनाथ बच्चों को तभी मिल पाएगा योजना को दृढ़ता के साथ सुचारू रूप से धरातल पर उतारा जाए।  क्या राज्य सरकार ऐसा कर पाने में सफल होगी?  यह तो भविष्य में ही पता चलेगा। लेकिन वर्तमान में राज्य सरकार द्वारा उठाया गया यह कदम एक सराहनीय प्रयास है। 

Read Also : – विधवा पेशन योजना उत्तर प्रदेश ऑनलाइन आवेदन कैसे करे?

Previous articleHaryana Mukhyamantri Bal Sewa Yojana
Next articlePM Cares for Children Yojana
I am a part-time blogger, Hindi Abhimaan is a platform where people are informed about various schemes launched by the Government of India and various state governments as well as various services being run to make the benefits of these schemes accessible to the general public so that People can have easy access to these services.