पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन योजना क्या है? |What is the PM Cares for Children Scheme?

PM Cares for Children Scheme | पीएम  केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना | PM Cares for Children Yojana | PM Cares for Children Yojana-2021

PM Cares for Children Yojana : – प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोविड-19 महामारी के कारण या अभिभावकों  को खोने वाले सभी अनाथ बच्चों को सहारा देने तथा जिवन में आगे बढने के लिए ‘ पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन योजना’(PM Cares For Children Yojana) के तहत सहायता प्रदान की जाएगी।  पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना के अंतर्गत अनाथ बच्चों को पीएम केयर्स फंड से 18 साल की उम्र तक  मासिक भत्ता तथा  23 साल की उम्र होने पर ₹1000000 की सहायता राशि प्रदान की जाएगी।  इस योजना के अंतर्गत भारत सरकार ऐसे अनाथ बच्चों के लिए निशुल्क शिक्षा सुनिश्चित करेगी। 

ऐसे बच्चों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए ऋण प्राप्त करने में सहायता दी जाएगी और  लिए जाने वाले शिक्षा ऋण पर पीएम केयर्स फंड द्वारा ब्याज का भुगतान किया जाएगा।कोविड-19 महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों को आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत 18 साल  की उम्र तक ₹500000 तक का मुफ्त स्वास्थ्य बीमा प्रदान किया जाएगा।  अनाथ बच्चों के स्वास्थ्य बीमा का प्रीमियम का भुगतान पीएम केयर्स द्वारा किया जाएगा। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का मानना है कि बच्चे भारत का प्रतिनिधित्व करते हैं और उनका समर्थन तथा रक्षा करने के लिए भारत सरकार सब कुछ करेगी।

अनाथ बच्चों की शिक्षा पर ध्यान देते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा सूचित किया गया कि 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों  का नजदीकी केंद्रीय विद्यालय या निजी स्कूल में नामांकन कराया जाएगा जबकि  11 से 18 वर्ष के बीच के बच्चों को सैनिक स्कूल और नवोदय विद्यालय जैसे केंद्र सरकार के किसी भी आवासीय स्कूल में नामांकित कराया जाएगा। अगर अनाथ बच्चा अपने किसी अभिभावक अथवा रिश्तेदार के साथ रहता है तो PM Cares For Children Yojana के तहत  उसे वही के नजदीक केंद्रीय विद्यालय या निजी स्कूल में दाखिला दिलाया जाएगा।

Key Highlights of PM Cares For Childrens

योजना का नामपीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रंस (PM Cares for Childrens)
योजना की घोषणा किसने कीश्री नरेंद्र  दामोदर दास मोदी, प्रधानमंत्री भारत
योजना की घोषणाशनिवार, 29 मई 2021
योजना  का उद्देश्यकोविड-19 महामारी के कारण अनाथ हुए बच्चों के लालन पालन, स्वास्थ्य एवं शिक्षा की समुचित व्यवस्था करना।
योजना के लाभार्थीकोविड-19 महामारी  जिन बच्चों ने अपने माता पिता तथा अभिभावकों को खो दिया है। 
योजना का खर्चपीएम केयर्स फंड
योजना से संबंधित मंत्रालयमहिला एवं बाल एवं विकास मंत्रालय,  भारत सरकार। 

ईएसआईसी ई चालान भुगतान ऑनलाइन  कैसे करें?

अगर बच्चे का नामांकन निजी स्कूल में कराया जाता है,  तो शिक्षा के अधिकार कानून के अंतर्गत बच्चे की शुल्क पीएम केयर फंड से दी जाएगी तथा स्कूल यूनिफार्म, किताब एवं काफी ओके खर्चे का भुगतान भी पीएम केयर  कोष से किया जाएगा। 

PM Cares For Children Yojana के तहत उच्च शिक्षा प्राप्त करने की इच्छा रखने वाले बच्चों को पाठ्यक्रम तथा उच्च शिक्षा के लिए शिक्षा ऋण हासिल करने में मदद की जाएगी।  शिक्षा ऋण पर लगने वाले ब्याज का भुगतान पीएम केयर्स फंड से किया जाएगा।  ग्रेजुएशन तथा पेशेवर पाठ्यक्रमों के लिए विकल्प के तौर पर ट्यूशन फीस अथवा पाठ्यक्रम शुल्क के  बराबर राशि   केंद्र  तथा राज्य सरकार की योजनाओं के अंतर्गत प्रदान की जाएगी। जो विद्यार्थी वर्तमान में स्कॉलरशिप योजना के पात्र नहीं है उन्हें पीएम केयर्स फंड से सम्मान छात्रवृत्ति उपलब्ध कराई जाएगी। 

पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन योजना के अंतर्गत  योजना के अंतर्गत आने वाले सभी अनाथ बच्चों को  आयुष्मान भारत योजना  या प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के लाभार्थी के रूप में नामांकित किया जाएगा।  प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत 500000 प्रतिवर्ष स्वास्थ्य बीमा योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा तथा 18 वर्ष की उम्र तक इन बच्चों के प्रीमियम राशि का भुगतान पीएम केयर्स  फंड से  द्वारा दिया जाएगा। 

सरकारी आंकड़ों की मानें तो, केंद्र शासित प्रदेशों तथा राज्यों से प्राप्त आंकड़ों का हवाला देते हुए महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी ने  बताया था कि  1 अप्रैल 2021 से 25 मई 2021 के बीच देशभर में करीब 570 बच्चे कोविड-19 के कारण अनाथ हुए थे। 

What is PM Cares Fund 

सन 2020 में Covid-19 महामारी भारत में  फैलने के बाद  भारत सरकार ने 27 मार्च 2020 को प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और आपातकालीन राहत कोष (Prime Minister’s Citizen Assistance and Relief in Emergency Situations Fund -PM CARES Fund)  की शुरुआत की गई थी।  इस फंड का मुख्य उद्देश्य निकट भविष्य में कोरोना वायरस  तथा  इसी तरह की अन्य  महामारी  जैसी स्थितियों से निपटने ,रोकथाम और राहत प्रयासों के लिए धन इकट्ठा करना  है। 

वर्तमान में  प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी PM Cares Fund के  अध्यक्ष है और ट्रस्टियों के रूप में  रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण तथा गृह मंत्री अमित शाह  शामिल है। PM Cares Fund में दान की गई कुल राशि और दानदाताओं के नामों को सार्वजनिक रूप से अभी तक खुलासा नहीं किया गया है।  इस फंड का निजी तौर पर ऑडिट किया जाता है। 

भारत सरकार ने शुरू में इसे निजी फंड बताते हुए इस बात से इनकार किया कि पीएम केयर्स फंड सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 जैसे पारदर्शिता कानूनों के प्रयोजनों के लिए एक सार्वजनिक फंड है।  दिसंबर 2020 में भारत सरकार ने अपना रुख बदलते हुए स्वीकार किया कि पीएम केयर्स फंड एक सार्वजनिक कोष था, लेकिन यह सूचना अधिकार अधिनियम के दायरे में नहीं आता है। PM Cares For Children Yojana में   कोविड-19 महामारी की वजह से अनाथ हुए बच्चों पर किया जाने वाला खर्च  इसी फंड से दिया जाएगा।

PM Cares for Children Scheme की विशेषताएं

  • कोविड-19 महामारी के कारण अपने माता-पिता अथवा अभिभावकों को खो देने वाले बच्चों को पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन स्कीम के तहत सहायता प्रदान की जाएगी।
  • भारत सरकार द्वारा बच्चों के नाम पर एक फिक्स डिपाजिट अकाउंट खोला जाएगा जिसमें पीएम केयर फंड की तरफ से इतनी धनराशि का योगदान किया जाएगा कि बच्चे के आयु 18 वर्ष होने तक 1000000 रुपए की राशि एकत्रित हो जाए।
  • PM Cares For Children Yojana के तहत  अनाथ बच्चे  को 18 साल  से 23 साल की उम्र तक फंड में जमा राशि से हर महीने 5 साल तक कुछ निश्चित धनराशि दी जाएगी तथा 23 साल की उम्र के बाद शेष बची संपूर्ण धनराशि उसे एक मुफ्त प्रदान कर दी जाएगी।
  • बच्चे इस धनराशि का इस्तेमाल उच्च शिक्षा के दौरान अपनी व्यक्तिगत और प्रोफेशनल जरूरतों को पूरा करने के लिए कर सकेंगे।
  • कोरोना महामारी की वजह से माता पिता को खो देने वाले बच्चों को सरकार द्वारा  पीएम केयर्स फंड की मदद से मुफ्त शिक्षा प्रदान की जाएगी।
  • 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को उनके घर के नजदीक पढ़ने वाले केंद्रीय विद्यालय या निजी स्कूलों में डे स्कॉलर के रूप में  दाखिला दिलाया जाएगा।
  • PM Cares For Children Yojana  के अंतर्गत 11 से 18 वर्ष के बच्चों को सैनिक स्कूल या नवोदय स्कूल जैसी केंद्र सरकार के आवासीय स्कूलों में दाखिला दिलाया जाएगा।
  • अगर बच्चा परिवार के किसी सदस्य/अभिभावक/दादा-दादी के साथ रहता है, तो उसे नजदीकी निजी स्कूल अथवा केंद्रीय विद्यालय में डे स्कॉलर के रूप में दाखिला दिलाया जाएगा।
  • अगर बच्चे का दाखिला प्राइवेट स्कूल में होता है, तो शिक्षा के अधिकार (Right To Education- RTE) के अंतर्गत बच्चे की फीस PM Cares Fund से दी जाएगी।
  • बच्चों की  टेक्स्ट बुक, नोटबुक तथा यूनिफॉर्म  पर होने वाले खर्च का भुगतान भी भारत सरकार द्वारा पीएम केयर्स फंड से किया जाएगा।
  • जो बच्चे उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं, उन्हें भारत में प्रोफेशनल कोर्सेज/उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए शिक्षा ऋण उपलब्ध कराने में भारत सरकार द्वारा सहयोग दिया जाएगा।   शिक्षा ऋण पर  ब्याज राशि का भुगतान भारत सरकार द्वारा पीएम केयर्स फंड से किया जाएगा।
  • PM Cares For Children Yojana के अंतर्गत आने वाले सभी बच्चों को आयुष्मान भारत योजना अथवा प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के साथ जोड़ा जाएगा।  
  • ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र तक प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत ₹500000 तक का प्रतिवर्ष फ्री हेल्थ इंश्योरेंस प्रदान किया जाएगा। 
  • आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत  हेल्थ बीमा पर आने वाले प्रीमियम का भुगतान पीएम केयर्स फंड से किया जाएगा। 
  • ग्रेजुएशन तथा पेशेवर पाठ्यक्रमों के लिए विकल्प के तौर पर ट्यूशन फीस अथवा पाठ्यक्रम शुल्क के  बराबर राशि   केंद्र  तथा राज्य सरकार की योजनाओं के अंतर्गत प्रदान की जाएगी। 
  • जो विद्यार्थी वर्तमान में स्कॉलरशिप योजना के पात्र नहीं है उन्हें पीएम केयर्स फंड से सम्मान छात्रवृत्ति उपलब्ध कराई जाएगी। 

श्रम सुविधा पोर्टल पर पंजीकरण कैसे करे?

पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना 2021 पात्रता

PM Cares For Children Yojana 2021  में शामिल  करने के लिए  भारत सरकार द्वारा निम्नलिखित पात्रता मार्ग मापदंड निर्धारित किए गए हैं-

  • कोविड-19 महामारी के दौरान अपने माता-पिता तथा अभिभावक को खो देने वाले अनाथ बच्चों को भारत सरकार द्वारा  पीएम केयर फॉर चिल्ड्रन योजना में शामिल किया जाएगा।
  • ऐसे बच्चे जिन्होंने कोरोना-19 महामारी में अपने माता-पिता में से कोई एक जो मां मारी से पहले जिंदा था, उसको खो दिया है। 
  • वे अनाथ बच्चे जिनके माता-पिता पहले ही  मर चुके थे और अभिभावकों द्वारा उनका पालन पोषण किया जा रहा था। लेकिन महामारी के दौरान उनके लीगल गार्जियन भी मर गए हैं। 
  • PM Cares For Children Yojana-2021 में ऐसे बच्चों को भी शामिल किया जाएगा, जिन्होंने कोविड-19 महामारी में अपने माता-पिता में से आय अर्जित करने वाले पेरेंट्स को खो दिया है। 

PM Cares For Children Yojana 2021  में दी जाने वाली  सहायता राशि

PM Cares For Children Yojana 2021 के लिए चयनित अनाथ बच्चों को भारत सरकार द्वारा निम्नलिखित  सहायता प्रदान की जाएगी-

  • भारत सरकार द्वारा बच्चों के नाम पर एक फिक्स डिपाजिट अकाउंट खोला जाएगा जिसमें पीएम केयर फंड की तरफ से इतनी धनराशि का योगदान किया जाएगा कि बच्चे के आयु 18 वर्ष होने तक 1000000 रुपए की राशि एकत्रित हो जाए।
  • PM Cares For Children Yojana के अंतर्गत अनाथ बच्चों को शिक्षा तथा अन्य खर्च के लिए 18 साल  से 23 साल की उम्र तक फंड में जमा राशि से हर महीने 5 साल तक  केक निश्चित धनराशि दी जाएगी।
  • अनाथ बच्चे की उम्र 23 साल होने पर उसे शेष बची संपूर्ण धनराशि एक मुफ्त प्रदान कर दी जाएगी।
  • भारत सरकार द्वारा बच्चों की स्कूल किसके साथ साथ टेक्स्ट बुक, नोटबुक तथा यूनिफॉर्म  पर होने वाले खर्च का भुगतान  पीएम केयर्स फंड से किया जाएगा।
  • भारत में प्रोफेशनल कोर्सेज/उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए शिक्षा ऋण पर  ब्याज राशि का भुगतान भारत सरकार द्वारा PM Cares For Children Yojana के अंतर्गत पीएम केयर्स फंड से किया जाएगा।
  • ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र तक प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत ₹500000 तक का प्रतिवर्ष फ्री हेल्थ इंश्योरेंस प्रदान किया जाएगा, जिसके प्रीमियम का भुगतान पीएम केयर्स फंड से किया जाएगा। 
  • ग्रेजुएशन तथा पेशेवर पाठ्यक्रमों के लिए विकल्प के तौर पर ट्यूशन फीस अथवा पाठ्यक्रम शुल्क के  बराबर राशि केंद्र  तथा राज्य सरकार की योजनाओं के अंतर्गत प्रदान की जाएगी। 
  • जो विद्यार्थी वर्तमान में स्कॉलरशिप योजना के पात्र नहीं है उन्हें पीएम केयर्स फंड से सम्मान छात्रवृत्ति उपलब्ध कराई जाएगी। 

निष्कर्ष – 

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने  कोविड-19 की वजह से अपने माता-पिता तथा अभिभावकों को खो देने वाले अनाथ बच्चों के लिए PM Cares For Children Yojana  की शुरुआत की है। कोविड-19 की वजह से अनाथ हुए बच्चों के लिए यह योजना एक वरदान साबित हो सकती है अगर इस योजना को ठीक तरीके से धरातल पर उतारा जाए। विभिन्न राज्य सरकारें अपने-अपने राज्यों में कोविड-19 की वजह से अनाथ हुए बच्चों के लिए चला मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना चला रही हैं।  अनाथ बच्चों को पालन पोषण, स्वास्थ्य तथा शिक्षा के लिए यह योजनाएं महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे जिससे अनाथ बच्चे  समाज की मुख्यधारा से जुड़ पाएंगे।

Read Also : – SeHAT OPD के लिए ऑनलाईन रिजस्ट्रेशन कैसे करे?

Spread the love

Leave a Reply