[यूपी भूलेख] Bhulekh UP Naksha Online: खसरा खतौनी, नकल जमाबंदी ऑनलाइन [upbhulekh.gov.in]

Bhulekh UP Naksha Online | यूपी भूलेख ऑनलाइन | उत्तर प्रदेश भूलेख ऑनलाइन खतौनी नकल | Uttar Pradesh Bhulekh Nakal | UP Bhulekh Khasra Khatauni | upbhulekh.gov.in | UP Bhulekh Khasra Khatoni Verification

27th January 2021 by Guru R P 

Bhulekh UP Naksha -क्या आप भूलेख  यूपी नक्शा  के बारे में जानते हैं?  भूलेख में भूमि से संबंधित तमाम जानकारियाँ निहित होती हैं। जब किसी विशेष भूमि क्षेत्र के संबंध में तमाम जानकारियाँ किसी नक्शे पर अंकित कर दी जाती हैं, तो उसे भूलेख नक्शा कहा जाता है। उत्तर प्रदेश सरकार ने भी अपने राज्य में यू पी भूलेख पोर्टल (upbhulekh.gov.in) के माध्यम से भूलेख यूपी नक्शा ऑनलाइन देखने की सुविधा प्रदान की है।

किसी भी सामान्य व्यक्ति के लिए Record of Right (ROR)  अर्थात   जमीन/संपत्ति के मालिकाना हक को समझना पेचीदा होता है। भारत सरकार ने भूमि से जुड़े रिकॉर्ड को सरल बनाने के लिए सन् 2008 में नेशनल लैंड रिकॉर्ड मॉडर्नाइजेशन प्रोग्राम (NLRMP) की शुरुआत की है। इस प्रोग्राम का मुख्य उद्देश्य भूमि से संबंधित रिकॉर्ड और उससे  जुड़ी सेवाओं को ऑनलाइन करना था, जिससे भूमि से जुड़े रिकॉर्ड का विवरण आम लोगों तक सरल भाषा में ऑनलाइन पहुंच सके। 

यूपी-भूलेख-Bhulekh-UP-Naksha-Online-खसरा-खतौनी-नकल-जमाबंदी-ऑनलाइन

देश के विभिन्न राज्यों ने नेशनल लैंड रिकॉर्ड मॉडर्नाइजेशन प्रोग्राम  को अपनाते हुए अपने भूमि से संबंधित रिकॉर्ड को विभिन्न भूलेख पोर्टल के माध्यमों से सेस्टैंडर्डाइज्ड व कंप्यूटराइज कर लिया है।  यूपी सरकार ने  भी उत्तर प्रदेश भूमि रिकॉर्ड  को डिजिटलाइज करते हुए NLRMP प्रोग्राम के अंतर्गत  यू पी भूलेख पोर्टल की स्थापना की है।  राज्य सरकार ने यू पी भूलेख पोर्टल के माध्यम से भूमि से संबंधित रिकॉर्ड  (UP Land Record) जैसे UP Bhulekh Naksha, Khasra Kahatauni, Jamabandi Nakal, Nakal Verification आदि को ऑनलाइन देखने की सुविधा प्रदान की है। 

इस पोर्टल का प्रयोग कर राज्य का कोई भी नागरिक ना केवल UP Bhulekh Naksha देख सकता है, बल्कि अपनी जमीन से जुड़ी जानकारियाँ एवं  सेवाएं ऑनलाइन घर बैठे ही प्राप्त कर पाएंगे। इस पोर्टल को शुरू करने के पीछे राज्य सरकार का मुख्य उद्देश्य उत्तर प्रदेश भूमि रिकॉर्ड  जैसे यूपी भूलेख नक्शा, नकल जमाबंदी, खसरा खतौनी आदि तथा भूमि से जुड़ी सेवाओं का डिजिटलीकरण करते हुए आम लोगों तक ऑनलाइन पहुंचाना है। यू पी भूलेख पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट http://upbhulekh.gov.in/  पर भूमि से संबंधित रिकॉर्ड को ऑनलाइन कर दिया है। 

Table of Contents

Key Highlights of Bhulekh UP Naksha Portal  

Name of Portal  Bhulekh UP Naksha  Portal (यूपी भूलेख पोर्टल)
Launched by Government of  Uttar Pradesh
Launched on 2nd May 20216
Related Department (Board of Revenue ) Revenue Department of Govt. of Uttar Pradesh
Beneficiaries Residents of Uttar Pradesh
Objective of Portal  To  provide UP Land Record online to the Resident of Uttar Pradesh
Designed, Developed & Maintained  by  Nation Information Centre, Uttar Pradesh
Official website Click Here

UP Ration Card Online Services

भूलेख यूपी नक्शा Portal (upbhulekh.gov.in/) 

यूपी सरकार ने  यूपी लैंड रिकॉर्ड को डिजिटाइज करते हुए    भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल की स्थापना की है, जिसकी ऑफिशियल वेबसाइट http://upbhulekh.gov.in/   है।  इस वेबसाइट का प्रयोग कर कोई भी नागरिक अपनी जमीन के भूलेख यूपी नक्शा  के साथ-साथ भूमि से संबंधित तमाम विवरण को ऑनलाइन घर बैठे चेक कर सकता है।  कोई भी नागरिक राजस्व विभाग  से संबंधित  सेवाओं को भी ऑनलाइन प्राप्त कर सकता है। 

राजस्व परिषद उत्तर प्रदेश ने नेशनल इंफॉर्मेशन सेंटर के साथ मिलकर भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल को तैयार किया है। इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य उत्तर प्रदेश में भूमि सुधार करते हुए यूपी भूमि रिकॉर्ड सिस्टम को डिजिटलाइज करना है।  इस पोर्टल की माध्यम से राज्य सरकार भूमि से जुड़ी सेवाओं जैसे Jamabandi, Bhulekh UP Naksha, Khasra Khatauni, Nakal Verification आदि को जनता तक ऑनलाइन पहुंचाना है। 

यूपी विरासत ( प्राकृतिक अधिकार) अभियान क्या है? 

योगी आदित्यनाथ द्वारा उत्तर प्रदेश  के गांव में  उत्तराधिकार के अधिकारों के लिए होने वाले भूमि विवादों को समाप्त करने और संपत्ति से जुड़े मुक़द्दमों पर अंकुश लगाने के लिए पूरे राज्य में तहसील व जिला स्तर पर 2 महीने का एक विशेष अभियान “विरासत (प्राकृतिक उत्तराधिकारी)” नाम की शुरुआत की है। इसे “उत्तराधिकारी अभियान” के नाम से भी पुकारा जा रहा है 

इस अभियान के माध्यम से  ना केवल भूमि और संपत्ति पर लंबे समय से चले आ रहे लंबित विवादों को समाप्त किया जाएगा बल्कि बिना अधिकार के भूमि पर कब्जा करने वाले भू माफियाओं के शोषण से ग्रामीणों को बचाया जाएगा। यह एक विशेष प्रकार का अभियान है जिसके अंतर्गत राज्य के 108000 राजस्व गांव में वर्षों से पढ़े लंबित मामलों को निपटाया जाएगा।

इस  अभियान के अंतर्गत जिला व तहसील स्तर पर डिस्टिक मजिस्ट्रेट द्वारा राजस्व गांवो में किन्ही 10% गांव  की  लेखपाल रिपोर्ट्स को सब डिविजनल मजिस्ट्रेट, एडीशनल डिस्टिक मजिस्ट्रेट तथा जिला स्तर के दूसरे अधिकारियों के माध्यम से चेक करवाया जाएगा।  इस अभियान में भाग लेने के लिए ग्रामीण लोगों को सरकार द्वारा ऑनलाइन तथा ऑफलाइन माध्यम से सुविधा प्रदान की जाएगी। इस अभियान के अंतर्गत लेखपाल  गांवो का भ्रमण करेगा तथा गांव के लोगों को उत्तराधिकार के लिए ऑनलाइन एप्लीकेशन  दाखिल करने में मदद करेगा। 

जिन लोगों की जमीन उनके पैतृक गांव में है लेकिन कहीं दूर रह रहे हैं उनके लिए तहसील स्तर पर विशेष काउंटर खोले जाएंगे। यह अभियान 15 दिसंबर 2020 से 15 फरवरी 2021 तक चलेगा। 

यूपी विरासत( प्राकृतिक अधिकार) अभियान कार्यक्रम सूची 

राजस्व/तहसील अधिकारियों द्वारा विरासत हेतु प्रार्थना पत्र लेना तथा उसे ऑनलाइन करने की प्रक्रिया 15 दिसंबर 2020 से 30 दिसंबर 2020
लेखपालों द्वारा ऑनलाइन जांच की प्रक्रिया 31 दिसंबर 2020 से 15 जनवरी 2021
राजस्व निरीक्षक द्वारा जांच का आदेश पारित करने की प्रक्रिया 16 जनवरी 2021 से 31 जनवरी 2021
यह सुनिश्चित करना कि यूपी में उत्तराधिकारी विवाद का कोई भी प्रकरण दर्ज होने से शेष ना रहा हो 1 फरवरी 2021 से 7 फरवरी 2021
जिला अधिकारियों तथा अन्य अफसरों द्वारा निर्विवाद उत्तराधिकारी के समस्त लंबित प्रकरणों को पूर्ण करना 8 फरवरी 2021 से 15 फरवरी 2021
यूपी वरासत अभियान 2020-21हेल्पलाइन नम्बर 0522-2620477

1067

[email protected]

One District One Product Scheme

यू पी भूलेख पोर्टल के उद्देश्य

उत्तर प्रदेश सरकार ने 2 मई 2016 को यू पी भूलेख पोर्टल की शुरुआत कर राज्य की भूमि से संबंधित तमाम रिकॉर्ड व भूमि से संबंधित तमाम विभागों को डिजिटलीकरण  के माध्यम से ऑनलाइन कर दिया है। भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल को शुरू करने के पीछे राज्य सरकार के निम्नलिखित उद्देश्य है।

  • उत्तर प्रदेश लैंड रिकॉर्ड का डिजिटलीकरण कर प्रबंधन को आधुनिक बनाना।
  • यूपी भूमि रिकॉर्ड से संबंधित  विभागों  के कामकाज में पारदर्शिता  लाना। 
  • राज्य के भूमि रिकॉर्ड का पूर्ण डिजिटलीकरण करना।
  • उत्तर प्रदेश में में आधुनिक एवं पारदर्शी भूमि रिकॉर्ड प्रबंधन प्रणाली विकसित करना।
  • उत्तर प्रदेश भूमि से जुड़ी तमाम सरकारी विभागों को एक ही पोर्टल पर लाकर संचालित करना। 
  • नागरिकों को भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन  सेवाएं  देना। 
  •  उत्तर प्रदेश में भूमि प्रबंधन से जुड़े  सभी विभागों विभागों  के अधिकारियों की जवाबदेही सुनिश्चित करते हुए भ्रष्टाचार को कम करना। 

भूमि विवरण (Land Record) क्यो आवश्यक है? 

  • भूमि के मालिकाना हक की जांच करने के लिए लैंड रिकॉर्ड आवश्यक है।
  •  किसी भी बैंक या अन्य ऋण प्रदान करने वाली संस्था से  भूमि पर ऋण प्राप्त करने के  लिए भूमि रिकॉर्ड आवश्यक है।
  • जमीन की बिक्री  तथा संपत्ति के  रजिस्ट्रेशन के लिए भूमि रिकॉर्ड आवश्यक है।
  • भूमि पर  किसी के मालिकाना हक को सत्यापित करने के लिए।
  • किसी भी बैंक में बैंक खाता खोलने के लिए भी भूमि रिकॉर्ड का इस्तेमाल किया जा सकता हैं।
  • परिवार में संपत्ति बँटवारे के समय भी भूमि से संबंधित रिकॉर्ड की आवश्यकता होती है।
  • विभिन्न व्यक्तिगत उद्देश्यों  के लिए भी भूमि रिकॉर्ड  का प्रयोग किया जा सकता है।
  • विभिन्न कानूनी विवादों में जमानत के तौर पर भी भूमि रिकॉर्ड  का प्रयोग किया जा सकता है। 

उत्तर प्रदेश भूलेख नक्शा पोर्टल के लाभ 

  •  उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल के माध्यम से  राज्य का कोई भी नागरिक किसी भी समय  खसरा नंबर, जमाबंदी नंबर के माध्यम से अपनी भूमि का भूलेख यूपी नक्शा ऑनलाइन देख सकता है।
  • इस पोर्टल के प्रयोग से भूमि  से संबंधित  विवरण प्राप्त करने में अनावश्यक रूप से खर्च होने वाले समय की बचत होगी।
  • इस पोर्टल के माध्यम से आधुनिक,पारदर्शी व व्यापक भूमि प्रणाली विकसित  की गई है जिससे  त्रुटि होने की संभावना बहुत कम है।
  • जमीन से संबंधित विवरण प्राप्त करने के लिए नागरिक को अब पटवारी या किसी भी राजस्व विभाग के कार्यालय में बार-बार  चक्कर काटने की आवश्यकता नहीं है।
  • उत्तर प्रदेश भूमि विवरण जैसे जमाबंदी नकल, खसरा खतौनी व भूलेख यूपी नक्शे आदि से संबंधित सेवाएं ऑनलाइन घर बैठे ही प्राप्त हो रही है। 
  • यू पी भूलेख पोर्टल के शुरू होने से राजस्व विभाग के  दफ्तरों में भ्रष्टाचार में कमी आई है।
  • राज्य के राजस्व विभाग के  कार्यालयों में काम करने वाले कर्मचारियों व अधिकारियों की जवाबदेही तय हुई है, जिससे सिस्टम में पारदर्शिता आई है।

उत्तर प्रदेश भूलेख से संबंधित प्रमुख घटक

  • खसरा नम्बर – यह एक विशेष नंबर होता है जो  राज्य सरकार के राजस्व विभाग के अधिकारियों द्वारा भूमि के किसी विशेष क्षेत्र को दिया जाता है। यह एक प्रकार का सर्वे संख्या या प्लॉट संख्या होती है जिसके आधार पर उस विशेष भूमि क्षेत्र  की पहचान सुनिश्चित की जाती है।
  • खतौनी नम्बर – यह एक विशेष प्रकार की संख्या होती है, जो विभिन्न खसरा नंबरों पर खेती करने वाले काश्तकारों को प्रदान की जाती है।  खतौनी नंबर किसी विशेष भूमि क्षेत्र पर काम करने वाले काश्तकारों के समूह  से संबंधित हैं। यह नंबर भूमि पर काम करने वाले काश्तकारों को खेवट के अंतर्गत दिया जाता है। खतौनी नंबर गांव में क्रमिक रूप से एक से लेकर अनन्त तक दिया जाता है। यह एक प्रकार का खाता बही है, जिसमें  काश्तकारों का विवरण दर्ज होता है। 
  • खेवट/ खाता नम्बर – खेवट या खाता एक विशेष प्रकार का नंबर होता है, जो किसी विशेष भूमि क्षेत्र पर मालिकाना हक रखने वाले विभिन्न  लोगों के समूह को दिया जाता है। अर्थात अगर  भूमि के किसी विशेष टुकड़े  पर चार अलग-अलग लोगों का मालिकाना हक है तो उस भूमि के खेवट नंबर में उन चारों लोगों का विवरण दर्ज होता है।
  • जमाबंदी/ फर्द –  जमाबंदी/ फर्द  एक प्रकार से भूमि से संबंधित विवरण होता है जिसके अंतर्गत भूमि के मालिक का नाम, काश्तकार का नाम, खसरा नंबर, भूमि का विवरण, भूमि पर की जाने वाली फसल तथा पट्टे का विवरण शामिल होता है। 

विधवा पेशन योजना उत्तर प्रदेश ऑनलाइन आवेदन कैसे करे?

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर प्रदान की जाने वाली सुविधाएं?

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में   यूपी लैंड रिकॉर्ड का डिजिटलीकरण करते हुए आमजन के लिए ऑनलाइन विभिन्न प्रकार के सेवाएं उपलब्ध  करवाई है है।  जो इस प्रकार हैं

  • राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जाने।
  • भूखंड/गाटे  का यूनिक कोड जाने।
  • भूखंड/गाटे के वादग्रस्त होने की स्थिति जाने।
  • भूखंड/गाटे  के विक्रय की स्थिति जाने।
  •  खतौनी ( अधिकार अभिलेख)  की नकल देखें।
  •  खतौनी अंश- निर्धारण की नकल देखें।
  •  राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति।
  •  निष्क्रांत संपत्ति देखें।
  •  शत्रु संपत्ति देखें।
  •  राजकीय आस्थान।
  •  राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर
  •  ऑनलाइन शिकायत पंजीकरण सेवा।
  •  शिकायत की स्थिति जाने।
  •  राजस्व विवाद  के बारे में जाने। 

भूलेख यूपी पोर्टल पर Register & Login कैसे करें?

उत्तर प्रदेश  भूलेख पोर्टल पर कुछ सुविधाएँ प्राप्त करने के लिए नागरिक को पहले भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर लॉगइन करना होता है।  भूलेख  यूपीपोर्टल पर लॉगिन करने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पीपोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • Home Page पर Login का विकल्प दिखाई देगा। लॉगइन के विकल्प पर क्लिक करें। 
  • Login के पेज पर Click करते ही एक नया पेज खुल जाएगा जिसमें Login  के लिए अलग अगल विभिन्न विकल्प दिखाई देंगे जो इस प्रकार हैं 
  1. Board of Revinue Administrative Login
  2. Board of Revenue Report Login
  3. District Administrative Login
  4. Tehsil Administrative Login
  5. Tehsil Mutation Login
  6. Tehsil Report Login
  7. Kha.Pu.-3 Print Login
  • उपरोक्त लिंक में से किसी एक लिंक, जिस के संबंध में आपको काम करना है, पर क्लिक करें। आपके समक्ष Login Page खुल जाएगा। जहाँ पर अपना User ID & Password भरे। इसके बाद नीचे दिए गए कैप्चा कोड को भरें और Login के बटन पर Click करे। 
  • अगर आपका पासवर्ड और यूजर आईडी सही है तो आप  भूलेख यूपी पोर्टल पर लॉगिन कर पाएंगे। इस प्रकार आप आसानी से उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल पर लॉगइन कर पाएंगे। 

भूलेख  यूपी पोर्टल पर भूलेख यूपी नक्शा कैसे   देखें?

यदि कोई व्यक्ति उत्तर प्रदेश की भूमि से संबंधित भूलेख यूपी नक्शा देखना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • इसके बाद Dropdown List से  RI, Halkas, Village व Sheet का चुनाव करे। और Search करे।
  • आपके द्वारा दी गयी जानकारी के आधार पर आपके गाँव का भू नक्शा या खसरा मैप आ जाएगा। 
  • भू नक्शा या खसरा मैप को आप अपने रिकॉर्ड के लिए Save भी कर सकते है।
  • इस प्रकार उत्तर प्रदेश राज्य का कोई भी  कोई भी नागरिक भूलेख यू पी पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन  भूलेख यूपी नक्शा या खसरा मैप आसानी से देख सकता है।

विधवा पेंशन योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करे?

भूलेख  यूपी पोर्टल पर भूलेख यूपी नक्शा Download कैसे  करे?

यदि कोई व्यक्ति उत्तर प्रदेश की भूमि से संबंधित भूलेख यूपी नक्शा को Download करना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • इसके बाद Dropdown List से  RI, Halkas, Village व Sheet का चुनाव करे। और Search करे।
  • आपके द्वारा दी गयी जानकारी के आधार पर आपके गाँव का भू नक्शा या खसरा मैप आ जाएगा। अब अपना Khasra No. दिए गए Column में भरे और Search के बटन पर Click करे। 
  • नागरिक अपनी जमीन के भूलेख यूपी नक्शा या खसरा मैप को आप अपने रिकॉर्ड के लिए Download  भी कर सकते है।
  • इस प्रकार उत्तर प्रदेश राज्य का कोई भी  कोई भी नागरिक भूलेख यू पी पोर्टल के माध्यम से ऑनलाइन  भूलेख यूपी नक्शा या खसरा मैप आसानी से डाउनलोड कर सकता है।

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर खसरा खतौनी नकल कैसे चेक करें?

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में   यूपी लैंड रिकॉर्ड का डिजिटलीकरण करते हुए आमजन के लिए ऑनलाइन उपलब्ध करवा दिया है। अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर  खसरा खतौनी नकल चेक करना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “ खतौनी(  अधिकार अभिलेख)  की नकल देखें” के विकल्प पर क्लिक करें।  एक कैप्चा कोड का पेज खुल जाएगा। कैप्चा कोड को सही-सही भरें और सबमिट के बटन पर क्लिक करें। 
  • Submit के बटन पर क्लिक करते ही आपके समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील में पड़ने वाले गांव की सूची आपकी स्क्रीन पर आ जाएगी जहां से अपने गांव के नाम पर क्लिक करें। आपके समक्ष एक नया पेज खुल जाएगा। जहां ड्रॉप डाउन लिस्ट से फसली वर्ष चुने ।
  • इसके बाद खसरा खतौनी व जमाबंदी देखने के लिए (i) खसरा/ गाटा संख्या द्वारा खोजें (ii) खाता संख्या द्वारा खोजें (iii) खातेदार के नाम द्वारा खोजें (iv)  नामांतरण दिनांक  से खोजें आदि विकल्प  मिलेंगे। 
  • इनमें से किसी एक विकल्प को चुनें और उसके संबंध में मांगी गई जानकारी खसरा/ गाटा संख्या,खाता संख्या, खातेदार का व नामांतरण दिनांक आदि निर्धारित कॉलम में भरें। 
  • अंतिम चरण के रूप में “खोजे” के बटन पर Click करे। आपके द्वारा भरी गई सूचना के आधार पर खसरा खतौनी व जमाबंदी नकल का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा

राजस्व ग्राम खतौनी का कोड कैसे जाने?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर  राजस्व ग्राम खतौनी कोड चेक करना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जाने” के विकल्प पर क्लिक करें। राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जाने के विकल्प पर क्लिक करते ही आपके समक्ष समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील में पड़ने वाले गांव की सूची राजस्व ग्राम खतौनी कोड के साथ आपकी स्क्रीन पर आ जाएगी जहां से अपने गांव  का राजस्व ग्राम खतौनी कोड प्राप्त कर सकते हैं। 

उत्तर प्रदेश शादी अनुदान योजना आवेदन कैसे करे? 

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर भूखण्ड/गाटे का यूनिक कोड कैसे जाने?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर  भूखण्ड/गाटे का यूनिक कोड चेक करना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “ भूखण्ड/गाटे का यूनिक कोड जाने” के विकल्प पर क्लिक करें।  
  • भूखण्ड/गाटे का यूनिक कोड जाने के विकल्प पर Click करते ही आपके समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील में पड़ने वाले गांव की सूची आपकी स्क्रीन पर आ जाएगी जहां से अपने गांव के नाम पर क्लिक करें। आपके समक्ष एक नया पेज खुल जाएगा। 
  • इसके बाद भूखण्ड/गाटे का यूनिक कोड देखने के लिए खसरा/ गाटा संख्या,निर्धारित कॉलम में भरें। 
  • अंतिम चरण के रूप में “खोजे” के बटन पर Click करे। आपके द्वारा भरी गई सूचना के आधार पर भूखण्ड/गाटे का यूनिक कोड का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर भूखण्ड/गाटे केे वादग्रस्त होने की स्थिति कैसे जाने?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर  भूखण्ड/गाटे के वादग्रस्त होने की स्थिति चेक करना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “ भूखण्ड/गाटे के वादग्रस्त होने की स्थिति जाने” के विकल्प पर क्लिक करें।  
  • भूखण्ड/गाटे के वादग्रस्त होने की स्थिति जाने के विकल्प पर Click करते ही आपके समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील में पड़ने वाले गांव की सूची आपकी स्क्रीन पर आ जाएगी जहां से अपने गांव के नाम पर क्लिक करें। 
  • इसके बाद भूखण्ड/गाटे के वादग्रस्त होने की स्थिति देखने के लिए खसरा/ गाटा संख्या,निर्धारित कॉलम में भरें। 
  • अंतिम चरण के रूप में “खोजे” के बटन पर Click करे। आपके द्वारा भरी गई सूचना के आधार पर भूखण्ड/गाटे के वादग्रस्त होने की स्थिति का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर भूखण्ड/गाटे केे विक्रय की स्थिति कैसे जाने?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर  भूखण्ड/गाटे के विक्रय की स्थिति चेक करना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “ भूखण्ड/गाटे के विक्रय की स्थिति जाने” के विकल्प पर क्लिक करें।  
  • भूखण्ड/गाटे के विक्रय की स्थिति जाने के विकल्प पर Click करते ही आपके समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील में पड़ने वाले गांव की सूची आपकी स्क्रीन पर आ जाएगी जहां से अपने गांव के नाम पर क्लिक करें। आपके समक्ष एक नया पेज खुल जाएगा। 
  • इसके बाद भूखण्ड/गाटे के विक्रय की स्थिति देखने के लिए खसरा/ गाटा संख्या,निर्धारित कॉलम में भरें। 
  • अंतिम चरण के रूप में “खोजे” के बटन पर Click करे। आपके द्वारा भरी गई सूचना के आधार पर भूखण्ड/गाटे के विक्रय की स्थिति का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा

 उत्तर प्रदेश प्रोपर्टी & मैरिज रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन कैसे अप्लाई करे? 

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर खतौनी अंश निर्धारण की नकल कैसे  देखें?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर  खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखें” के विकल्प पर क्लिक करें।  
  • खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखें के विकल्प पर Click करते ही आपके समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील में पड़ने वाले गांव की सूची आपकी स्क्रीन पर आ जाएगी जहां से अपने गांव के नाम पर क्लिक करें। आपके समक्ष एक नया पेज खुल जाएगा। 
  • इसके बाद खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखने के लिए खसरा/ गाटा संख्या,निर्धारित कॉलम में भरें। 
  • अंतिम चरण के रूप में “खोजे” के बटन पर Click करे। आपके द्वारा भरी गई सूचना के आधार पर खतौनी अंश निर्धारण की नकल का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति कैसे  देखें?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर   राजस्व ग्राम सारणी संपत्ति देखना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “ राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति” के विकल्प पर क्लिक करें।  
  • राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति के विकल्प पर Click करते ही आपके समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील में पड़ने वाले गांव की सूची आपकी स्क्रीन पर आ जाएगी जहां से अपने गांव के नाम पर क्लिक करें। आपके समक्ष एक नया पेज खुल जाएगा। 
  • इसके बाद राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति देखने के लिए खसरा/ गाटा संख्या,निर्धारित कॉलम में भरें। 
  • अंतिम चरण के रूप में “खोजे” के बटन पर Click करे। आपके द्वारा भरी गई सूचना के आधार पर राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर निष्क्रांत संपत्ति कैसे  देखें?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर निष्क्रांत संपत्ति देखना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “ निष्क्रांत संपत्ति ” के विकल्प पर क्लिक करें।  
  • निष्क्रांत संपत्ति के विकल्प पर Click करते ही आपके समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील नाम पर क्लिक करते ही आपकी तहसील में पायी जाने वाली तमाम निष्क्रांत संपत्ति का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा।  
  • निष्क्रांत संपत्ति  का अर्थ कोर्ट में संपत्ति से संबंधित केस पेंडिंग रहने पर कोर्ट द्वारा यथास्थिति का आदेश दिया जाता है। ऐसी संपत्ति को निष्क्रांत संपत्ति कहते हैं। कोर्ट के आदेश के बिना इस संपत्ति में किसी प्रकार का फेरबदल नहीं कर सकते। 

उत्तर प्रदेश जन सुनवाई पोर्टल ऑनलाइन शिकायत कैसे करे? 

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर शत्रु संपत्ति कैसे  देखें?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर  शत्रु संपत्ति देखना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “ शत्रु संपत्ति ” के विकल्प पर क्लिक करें।  
  • शत्रु संपत्ति के विकल्प पर Click करते ही आपके समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील नाम पर क्लिक करते ही आपकी तहसील में पायी जाने वाली तमाम शत्रु संपत्ति का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा।  

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर राजकीय आस्थान कैसे  देखें?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर राजकीय आस्थान देखना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “ राजकीय आस्थान ” के विकल्प पर क्लिक करें।  
  •  राजकीय आस्थान के विकल्प पर Click करते ही आपके समस्त जनपद की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील के नाम पर क्लिक करें।
  • तहसील नाम पर क्लिक करते ही आपकी तहसील में पायी जाने वाली तमाम  राजकीय आस्थान का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा।  

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर कैसे  देखें?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर   राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर देखना चाहता है, तो नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम भूलेख यू पी पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा। 
  • Home Page  पर राजस्व विभाग द्वारा प्रदान की जाने वाली भूमि से संबंधित सेवाओं की सूची दिखाई देगी। 
  • खसरा खतौनी नकल देखने के लिए “राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर ” के विकल्प पर क्लिक करें।  
  • राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर के विकल्प पर Click करते ही आपके समस्त जनपद की राजस्व ग्राम सर्जन संपत्ति रजिस्टर की सूची आ जाएगी। जनपद सूची में से अपने जनपद  के नाम पर क्लिक करें।
  • जनपद का चुनाव करते ही आपके समक्ष तहसील राजस्व ग्राम सर्जन संपत्ति रजिस्टर की सूची आ जाएगी।  तहसील सूची से अपनी तहसील सम्पति Total Chakbandi Village के अन्तर्गत दिए गए Figure पर क्लिक करें।
  • चकबंदी विलेज के आंकड़ों पर क्लिक करते ही राजस्व चकबंदी ग्राम का विवरण आपकी स्क्रीन पर आ जाएगा।  

 यूपी भूलेख मोबाइल ऐप डाउनलोड कैसे करें?

उत्तर प्रदेश सरकार ने यू पी भूलेख पोर्टल की पहुंच आम लोगों तक पहुंचाने के लिए वेब पोर्टल के साथ-साथ अपना यू पी भूलेख मोबाइल ऐप को भी विकसित किया है। जिसके माध्यम से कोई भी अपने मोबाइल फोन से ही भूलेख यूपी नक्शा के साथ-साथ अपनी भूमि से संबंधित  अन्य विवरण की ऑनलाइन जांच कर सकता है। अगर आप इस मोबाइल ऐप को डाउनलोड करना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए Steps को फॉलो करें। 

  • सर्वप्रथम Google Play Store पर जाए। Google Play Store का Dashboard खुल जाएगा। 
  • Search Box में यू पी भूलेख मोबाइल ऐप को Type करे।
  • इसके बाद  Search के विकल्प पर Click कर Search करे। 
  •  भूलेख यूपी नक्शा  मोबाइल ऐप से  संबंधित Mobile App की List आ जाएगी। 
  • सबसे ऊपर वाली  यू पी भूलेख Mobile App का चुनाव करे। 
  • उत्तर प्रदेश भूलेख मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड होते ही Install का विकल्प दिखाई देगा।   Install के विकल्प पर क्लिक करे। 
  • आपके मोबाइल फोन में   मोबाइल ऐप  इंस्टॉल हो जाएगी। इसे Open कर इसका इस्तेमाल कर सकते है।

Ayushman Bharat Yojana Registration Online

भूलेख  यूपी नक्शा पोर्टल पर शिकायत कैसे   दर्ज करें?

अगर कोई व्यक्ति  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल पर शिकायत दर्ज करना चाहता है, तो वह उत्तर प्रदेश जनसुनवाई पोर्टल के माध्यम से अपनी शिकायत दर्ज कर सकता है। इसके लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम जनसुनवाई पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • Home Page पर शिकायत पंजीकरण (संबंधित विभागों एवं अधिकारियों से सीधे संपर्क करें) का विकल्प  आइकन के साथ दिखाई देगा। शिकायत पंजीकरण आइकन पर क्लिक करें।
  • शिकायत पंजीकरण आइकन पर क्लिक करते  ही  ऑनलाइन आवेदकों के लिए नीतियों से संबंधित पॉप अप बॉक्स खुलेगा, जिसमें वे विषय होंगे जिनको जन शिकायत नहीं माना जाएगा। मैं सहमत हूं कि मेरी जन शिकायत उपरोक्त वर्णित श्रेणियों में नहीं है के Box को Check करे और सबमिट करें, के बटन पर क्लिक करें।
  • ओटीपी के माध्यम से पंजीकरण करने का एक नया पेज खुल जाएगा, जहां अपना मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी दर्ज करें और नीचे दिए गए कैप्चा कोड को भरे। 
  • इसके बाद ओटीपी भेजें (Sent OTP) के विकल्प पर क्लिक करें। आपके मोबाइल नंबर पर एक वन टाइम पासवर्ड (OTP)  आएगा जिसे दिए गए निर्धारित कॉलम में भरें। 
  • One Time Password को Submit करे। सबमिट करते ही शिकायत से संबंधित पेज खुल जाएगा।
  • अगर आपको सामूहिक शिकायत करनी है तो सामूहिक शिकायत के ऑप्शन को सेलेक्ट करें।
  • शिकायत के फॉर्म में आवेदन कर्ता का विवरण के अंतर्गत अपना नाम, पिता या पति का नाम, लिंग, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी व आधार संख्या  आदि भरें।
  • शिकायत का विवरण  (Complaint Details) के अंतर्गत शिकायत का प्रकार शिकायत/ मांग/ सलाह/ अन्य  में से किसी एक का चुनाव करें तथा ड्रॉपडाउन लिस्ट से विभाग व शिकायत संबंधित श्रेणी का चुनाव करें। 
  • आवेदन पत्र की विस्तृत विवरण के कॉलम में अपनी शिकायत को टाइप करें। शिकायत  टाइप करते समय स्पेशल करैक्टर का प्रयोग ना करें। 
  • शिकायत/ मांग/ सुझाव  क्षेत्र की जानकारी के अंतर्गत  ग्रामीण या नगरीय में से एक को चुने तथा  ड्रॉप डाउन लिस्ट से  अपना जनपद,, विकासखंड, ग्राम पंचायत,राजस्व ग्राम व थाने  का चुनाव करें। 
  • इसके बाद अपना पता टाइप करें और शिकायत से संबंधित दस्तावेज को अपलोड करें। ध्यान रहे अपलोड किया जाने वाला दस्तावेज  PDF/JPG/JPEG/PNG Format में ही हो व 500KB  से अधिक ना हो। 
  • अगर आपने पहले इस संबंध में कोई शिकायत दर्ज की है तो पूर्व संदर्भ संख्या का विवरण दें। 
  • उसके बाद “संदर्भ सुरक्षित करें”(Save Complaint)  के बटन पर क्लिक करें।  शिकायत को सेव करते ही आपके मोबाइल फोन और ईमेल आईडी पर शिकायत का Reference No. आ जाएगा। जिसका इस्तेमाल एप्लीकेशन स्टेटस को चेक करने के लिए कर सकते हैं। 

यू पी भूलेख पोर्टल पर शिकायत की स्थिति कैसे देखें? 

किसी भी नागरिक को अपनी शिकायत की स्थिति देखने के लिए राज्य सरकार द्वारा शुरू किए गए Jansunwai portal  का सहारा लेना होगा। शिकायत की स्थिति देखने के लिए नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करें।

  • सर्वप्रथम जनसुनवाई पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आधिकारिक वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा।
  • Home Page पर शिकायत की स्थिति ( कार्यवाही का विवरण मोबाइल/  ईमेल के माध्यम से जाने) का विकल्प  आइकन के साथ दिखाई देगा। शिकायत की स्थिति के ICON  के बटन पर क्लिक करें।
  • संदर्भ की स्थिति देखें (Track Complaint Status) का एक नया पेज खुल जाएगा। ध्यान रहे जनसुनवाई पोर्टल द्वारा केवल 3 माह पूर्व तक के निस्तारित संदर्भों का विवरण देखा जा सकेगा।
  • अपनी शिकायत संख्या, मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी दर्ज करें और नीचे दिए गए कैप्चा कोड को भरे। 
  • अगर आपको अपना शिकायत नंबर याद नहीं है, तो इसी Page में दिए गए “मोबाइल नंबर/ ईमेल आईडी से पंजीकृत शिकायतें प्राप्त करें” के विकल्प पर क्लिक करें।
  • अपना मोबाइल नंबर या ईमेल आईडी भरें तथा नीचे दिए गए कैप्चा कोड को भरकर “ ओटीपी प्राप्त करें”  की बटन पर क्लिक करें।   ओटीपी को भरें और सबमिट करें आपकी शिकायत का रेफरेंस नंबर आपके मोबाइल का ईमेल आईडी पर प्राप्त हो जाएगा। 
  • इसके बाद “सबमिट करें” के बटन पर क्लिक करें। क्लिक करते ही आपके सिस्टम या मोबाइल की स्क्रीन पर शिकायत स्टेटस आ जाएगा। 

Helpline Number

किसी भी प्रकार की तकनीकी सहायता के लिए 

Computer Cell

Board Of Revenue

Lucknow, Uttar Pradesh

Email ID – [email protected]

 Contact No. 0522-2217145

Conclusion 

उत्तर प्रदेश सरकार ने भूमि से जुड़े राजस्व विभाग के प्रशासन को सुदृढ़ करने व भूमि से संबंधित रिकॉर्ड को अद्यतन करने के लिए  भूलेख यूपी नक्शा पोर्टल  की  शुरुआत की है। इस पोर्टल के माध्यम से राज्य की भूमि से जुड़े तमाम दस्तावेज़ों का डिजिटलीकरण कर उत्तर प्रदेशलैंड रिकॉर्ड से जुड़ी सेवाओं को आसान बनाया गया है। इस पोर्टल के माध्यम से राज्य के नागरिक अपनी भूमि से संबंधित भूलेख यूपी नक्शा सहित अन्य  विभिन्न जानकारियाँ घर बैठे ही ऑनलाइन प्राप्त कर सकते हैं। 

सरकार ने  भूमि से जुड़े सभी विभागों  के कामकाज में पारदर्शिता लाते हुए राजस्व विभाग विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार  पर अंकुश लगाया है।  उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल के शुरू होने  पर कोई भी व्यक्ति किसी भी समय अपनी भूमि संबंधी रिकॉर्ड की जांच  ऑनलाइन कर सकता है।अब उसे इसके लिए किसी पटवारी या राजस्व विभाग के कार्यालय जाने की  आवश्यकता नहीं रह गई है।

Bhulekh Uttarakhand Related FAQs

  1. 1. क्या प्रमाणित प्रति पर दिए गए उद्धरण क्रमांक को  भूलेख पोर्टल के माध्यम से वेरीफाई किया जा सकता है? 

उत्तर –  हाँ,  उत्तर प्रदेश भूलेख  की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर नकल खतौनी प्रमाणित करें/Verify ROR by RoR Id के विकल्प का चयन करें और प्रमाणित  प्रतिलिपि पर दिए गए उधर क्रमांक को निर्धारित कॉल में भरें। नकल जारी करने के स्रोत का विकल्प मिल जाएगा। Source Link पर Click करे प्रतिलिपि की वर्तमान स्थिति देख सकते हैं। 

  1. 2.क्या चकबंदी/ सर्वे ग्राम की नकल खतौनी प्राप्त की जा सकती है? 

उत्तर – भूमि रिकॉर्ड के डिजिटलीकरण के दौरान ग्राम की पुरानी से नई खतौनी बनी होगी या फिर चकबंदी प्रक्रिया से वापस आने पर ग्राम की नई खतौनी बनी होगी  हस्ताक्षर में होने के कारण नकल नहीं बन रही है। इसके लिए संबंधित तहसील कार्यालय से संपर्क कर सकते हैं। 

  1. 3.जिले का राजस्व ग्राम  सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर, सर्वे ग्राम चकबंदी तथा,समस्त गांव को जानने के लिए क्या करें? 

उत्तर –  अपने जिले के राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर, सर्वे ग्राम चकबंदी तथा समस्त गांव को जानने के लिए उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल पर दिए गए विकल्प सार्वजनिक संपत्ति रजिस्टर देखें कि विकल्प पर जाएं। 

  1. 4.उत्तर प्रदेश में परगना का कोड व परगनाका नाम जानने के लिए क्या करें? 

उत्तर – किसी भी प्रकार का नाम व कोड जानने के लिए यूपी भूलेख पोर्टल पर दिए गए परगना मेनू पर क्लिक करें और इससे संबंधित जानकारी प्राप्त करें।

  1. 5. उत्तर प्रदेश में विभिन्न तहसीलों का कोड कैसे प्राप्त करें? 

उत्तर – विभिन्न तहसीलों का कोड प्राप्त करने के लिए भूलेख उत्तर प्रदेश पोर्टल पर दिए गए मैन्यू तहसील पर क्लिक करें।।

Also Read: – PM Ujjwala Yojana 2021

Spread the love

This Post Has One Comment

Leave a Reply

Bhulekh UP Naksha Online UP Bhulekh